धारा 302 क्या है? धारा 302 कब लगती है? | IPC Dhara 302 in Hindi

भारतीय दंड संहिता (Indian Panel Code) के तहत धारा 302 के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति की हत्या की इरादे से उस पर आघात करता है तो उसे धारा 302 के तहत दंड का प्रावधान दिया जाता है। उदाहरण के तौर पर समझो तो मान लीजिए सीता ने गीता के ऊपर किसी धारदार हथियार से हमला किया और इसके बाद गीता की मौत हो गई तो यहां पर सीता के ऊपर धारा 302 के तहत केस चलाया जाएगा। 

यदि सभी साक्ष्य उसके ख़िलाफ़ पाए गए हैं तो कोर्ट से उसे सजा दी जाती है। और उसे कड़ी से कड़ी सजा सुनाई जाती है ऐसी हालत में उस दोषी को जमानत भी नहीं होती है।

IPC धारा 302 कब बनी? | When was IPC Section 302 Made?

भारतीय दंड संहिता ब्रिटिश काल में सन 1862 में बनाई गई है जिसके अंतर्गत धारा 302 दंड संहिता के अंतर्गत चली आ रही है। और जब यह कानून बना था तब बांग्लादेश, माम्यांर, पाकिस्तान सभी भारत के अंदर ही आते थे जिस कारण से यह कानून अन्य देशों में भी लगभग समान है।

भारत में इस कानून में समय-समय पर विभिन्न प्रकार के बदलाव भी किए गए हैं।

धारा 302 के तहत दंड का प्रावधान क्या है? | What is the Provision of Punishment Under Section 302?

धारा 302 के अंतर्गत न्यायालय में पुलिस को यह बात स्पष्ट करनी होगी कि अपराधी ने अपराध करने के दृष्टिकोण से ही यह कार्य किया है| उदाहरण के तौर पर किसी अपराधी ने अगर अपनी जान बचाने के लिए किसी की हत्या की है तो यह अपराध दूसरे धाराओं के अंतर्गत चल जाएगा न कि धारा 302 हत्या के अंतर्गत चलाया जाएगा। जबकि अगर कोई अपराधी जानबूझकर किसी की हत्या करता है तब उसके ऊपर धारा 302 के तहत हत्या करने के जुर्म में दंड का प्रावधान लगाया जाता है। जिसके तहत अपराधी को आजीवन कारावास व मृत्यु दंड की सजा सुनाई जाती है।

या फिर भारी जुर्माने का प्रावधान भी लागू किया जाता है।

धारा 302 के उद्देश्य | Objectives of Section 302

भारतीय दंड संहिता धारा 302 के तहत कठोर दंड का प्रावधान इसलिए रखा गया है ताकि घोर अपराधों से समाज को छुटकारा मिल सके तथा इस डर से आगे कोई भी व्यक्ति यह अपराध न कर सके।

तो दोस्तों हमें आशा है कि आप को धारा 302 के तहत हमने जो भी बातें बताई हैं वह सभी समझ में आई है। ऐसे ही और जानकारियों को पढ़ने के लिए आप हमारे दूसरे आर्टिकल को पढ़ सकते हैं।

ये भी पढे: कुटीर उद्योग क्या है? जानिये पुरी जानकारी | Kutir Udyog Kya Hai?

आरपीएफ क्या है और कैसे जॉईन करे? | RPF Kya Hai And RPF full form in Hindi

BSTC का फुल फॉर्म क्या होता है? | BSTC Full Form in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *